Poetry

Love is the alchemy 

Heavy heart, fiery is your mind? Slow is your walk, dragging of a sort?  Long face, like blabbering blind?  Sad is your mood, like messy distort?     Want smile, swag and leap, entwined? Flowering heart and peaceful mind? Hope passion and emotion realigned? Love is the alchemy, keep it in mind.

Poetry in Hindi

हर सुभह

हर सुभह जब आकाश खिलता है सूरज निकलता है,खुशबु भर देता है  नयी ताज़गी से मेरे ह्रदय के दरवाजे पर एक आश की थाली में, प्यार भर लाता है वह तो मेरा मन , करवट बदलकर आँखे मूंद कर, उसे जाने को कहता है हर सुभह जब कोयल मुझे जगाती है शीतल पवन के पंख… Continue reading हर सुभह