हर सुभह

हर सुभह जब आकाश खिलता है सूरज निकलता है,खुशबु भर देता है  नयी ताज़गी से मेरे ह्रदय के दरवाजे पर … More